सेल्फ स्टडी कैसे करें – How to do self study

Share This Post

सेल्फ स्टडी कैसे करें?,घर पर सेल्फ स्टडी कैसे करें?,सेल्फ स्टडी के फायदे,बिना कोचिंग के कैसे पढ़े :

दोस्तों आज हम जिस टॉपिक पर बात करने वाले हैं वह हर विद्यार्थी के लिए बेहद ही जरूरी है। दोस्तों अक्सर आपने सुना होगा कि कोई विद्यार्थी बिना कोचिंग ग्रे खुद से घर पर पढ़ कर एग्जाम में अच्छे नंबरों से पास हो जाता है, इसी को self-study कहा जाता है।

सेल्फ स्टडी कैसे करें - How to do self study
सेल्फ स्टडी कैसे करें – How to do self study

 

दोस्तों आज की पोस्ट के अंतर्गत self-study से संबंधित ही जानकारी देने वाले हैं और यह भी जानेंगे कि self-study कैसे करें?, और Self-study किन-किन तरीका और से कर सकते हैं? तू चली जान लेते हैं किस सेल्फ स्टडी किए हुए कौन-कौन से तरीके हैं जो आप किस Self-study में चार चांद लगा सकते हैं।

दोस्तों आज के समय में सभी विद्यार्थी एक अच्छा नंबर से ही पास होना चाहते हैं। लेकिन कुछ विद्यार्थी कोचिंग करके अच्छा नंबर प्राप्त कर लेते हैं तो वहीं कुछ विद्यार्थी घर पर ही पढ़ाई करके अच्छा नंबर प्राप्त कर लेते हैं। अगर आपको भी घर पर ही पढ़ाई करने की सोच रहे हैं यानी Self-study करने का योजना बना रहे हैं तो आपके लिए कुछ नीचे महत्वपूर्ण तरीका है दी गई हैं।

Self-Study करने वाले विद्यार्थी को निम्न दी गई तरीका को अपनाना चाहिए :

1.Self-Study के लिए एक खुद का लक्ष्य बनाये : 

दोस्तों हर विद्यार्थी का एक उद्देश्य या सपना होता है कि वह एक इंजीनियर या फिर डॉक्टर बने और कुछ लोग सरकारी नौकरी करने का सोचते हैं तो कुछ बिजनेस करने का सोचते हैं। विद्यार्थी जीवन में सभी के पास कोई ना कोई लक्ष्य जरूर होना चाहिए। जब विद्यार्थी का कोई लक्ष्य रहता है तो वह लक्ष्य को पूरा करने के लिए मन लगाकर पढ़ाई करता है क्योंकि उसे अपने लक्ष्य को पूरा करने की चिंता रहती है। इसलिए सभी विद्यार्थी को self-study के लिए एक लक्ष्य जरूर बनाना चाहिए।

2.पढ़ने के लिए रूटीन बनाएं :

दोस्तों अगर आपको अपने लक्ष्य को यानी अपने सपने को पूरा करना चाहते हैं तो आपकी जिंदगी में एक सही Direction का टाइम टेबल का होना बेहद जरूरी है। उसी तरह से आपको भी अगर सेल्फ स्टडी करना है तो आप अपने पढ़ाई का टाइम टेबल जरूर बना ले और सिर्फ टाइम टेबल ही न बनाए बल्कि उसे हमेशा फॉलो करने का भी प्रयास करें। क्योंकि एक अनुशासित व्यवस्था इस छात्र को एक होनहार विद्यार्थी बनाता है या दर्जा दिलाता है और यही नहीं आपको अच्छा सफलता भी दिलाने में मददगार साबित होता है। इसलिए सेल्फ स्टडी के लिए एक सही रूटिंग का होना बेहद जरूरी है।

3.पढ़ाई करते समय आपका ध्यान ना भटके :

दोस्तों सेल्फ स्टडी के लिए एक लक्ष्य तथा सही रूटिंग के साथ-साथ यह भी जरूरी है कि जब कभी भी आप पढ़ाई करें तो आपका ध्यान पढ़ाई पर होना चाहिए। अर्थात पढ़ाई करते समय आपका ध्यान न मोबाइल पर, न स्कूल या कॉलेज में की गई दोस्तों के मजाक पर, न आपके बाबू सोना के बात पर, न कहीं घूमने जाने की बात पर हो यानी कहने का अर्थ यही है कि आपका पूरा ध्यान आपके पढ़ाई पर होना चाहिए।

   अगर इन सब बात को इग्नोर नहीं करेंगे तो आप कभी भी Self-Study नहीं कर पाएंगे। और आपका सपना और वह लक्ष्य हमेशा के लिए सपना का सपना ही रह जाएगा। इसलिए सेल्फ स्टडी करते समय आपका पूरा ध्यान आपकी पढ़ाई पर होना बेहद जरूरी है।

4.सुबह सुबह पढ़ाई करने की कोशिश करें : 

दोस्तों अक्सर हम बचपन से ही अपने अध्यापकों को यह कहते हुए सुनते आ रहे हैं कि हमें सुबह में उठकर पढ़ाई करनी चाहिए। इसके पीछे का कारण यह है कि सुबह में की गई पढ़ाई बहुत ही अच्छी होती है। और विद्यार्थी जो याद करना चाहते हैं वह आसानी से याद भी हो जाता है। विद्यार्थी जो भी पड़ता है वे भी उसे समझ में आ जाता है। इसलिए सुबह में ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई करने की कोशिश करें।

5.Concep को समझें :

दोस्तों पढ़ाई सिर्फ नंबरों के लिए नहीं होता है अक्सर हमें से बहुत से ऐसे विद्यार्थी हैं जो केवल यह सोच कर पढ़ाई करते हैं कि वे परीक्षा में पास हो जाएं। लेकिन पास होने के लिए या अच्छे नंबर प्राप्त करने के लिए भी पढ़ाई करना बेहद ही जरूरी है। अगर आप अच्छा नंबर पाना चाहते हैं तो जब भी पढ़ने बैठे तो कभी भी किसी टॉपिक को रटने का कोशिश ना करें। बल्कि उसके कॉन्सेप्ट को समझने का प्रयास करें। क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि हम किसी टॉपिक को राटा मारकर याद तो कर लेते हैं लेकिन जब परीक्षा देने जाते हैं और उस टॉपिक से रिलेटेड कुछ क्वेश्चन घुमा दिए जाते हैं तो हम उस प्रश्न को छोड़ देते हैं।

यानी हम कह सकते हैं कि “आता हुआ प्रश्न छूट जाता है” इसका कारण यह है कि हम प्रश्नों कोराटा मारे थे लेकिन उसके कंसेप्ट को नहीं समझे थे। इसलिए सेल्फ स्टडी करते समय किसी टॉपिक की कॉन्सेप्ट को समझने का प्रयास करें, रटने का नहीं।

6.Revision करें :

दोस्तों किसी भी विषय को पढ़ने के बाद सबसे ज्यादा जरूरी उसे रिवीजन करना होता है। क्योंकि कोई भी जरूरी नहीं है कि आप एक बार पढ़ाई कर लिए तो आपका वह टॉपिक पूरा ही क्लियर हो गया होगा। कभी-कभी ऐसा होता है कि हम लोग एक बार टॉपिक पढ़ लेते हैं तो भी हमें उस टॉपिक को लेकर हमेशा Doubt बना रहता है। लेकिन जब आप उसी टॉपिक को एक बार रिवीजन करते हैं तो कुछ हद तक वह आपका डाउट क्लियर हो जाता है।

      कोई जरूरी नहीं है कि एक या दो बार ही रिवीजन करें आप चाहे तो किसी टॉपिक को हमेशा रिवीजन करते रहें। बार बार रिवीजन करने से वह टॉपिक की याद रहता है। इसलिए किसी भी सब्जेक्ट को पढ़ने के बाद उसका रिवीजन करना बेहद जरूरी है।

7.Mock Test करें : 

दोस्तों सेल्फ स्टडी करने का Mock Test सबसे अच्छा तरीका है जो विद्यार्थी सेल्फ स्टडी करते हैं उनके लिए बेहद जरूरी है कि Mock Test दे। जब भी किसी सब्जेक्ट की पढ़ाई पूरी हो जाए तो खुद से उसका टेस्ट दें और यह चेक करें कि आप से कहां-कहां गलती हुई है। जिससे आपको यह अनुमान लग जाएगा कि आपसे कहां गलती हो रही है और उस गलती को सुधारने में भी आपको सहायता मिलेगा।

मुझे आशा है कि दोस्तों उपर्युक्त बताई गई यह 7 तरीका आपकी सेल्फ स्टडी में बहुत ही सहायक साबित हो। और आप घर बैठे इन तरीका ओं की वजह से एक अच्छा तैयारी कर परीक्षा में अच्छा नंबर प्राप्त करने का प्रयास कर सकें।

 

FAQs__________________

विद्यार्थियों के द्वार पुछे जाने वाला प्रश्न

1.सेल्फ स्टडी कैसे की जाती है?

उत्तर – सेल्फ स्टडी करने के लिए निम्नलिखित टिप्स उपयोगी हो सकते हैं:

  • अपना अवधि निर्धारित करें
  • अपने अध्ययन के लक्ष्य को स्पष्ट करें
  • समय सारणी तैयार करें
  • शांत और शांतिपूर्ण माहौल तैयार करें
  • नोट्स बनाएं
2.किसी चीज को कैसे याद करें?

उत्तर – याद करने के लिए कुछ टिप्स हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं:

  • अधिक से अधिक दोहराएं
  • संबंधित बातों को जोड़ें
  • नियमित अभ्यास करें
  • मनोरंजक तरीकों का उपयोग करें
  • ध्यान केंद्रित करें
  • अभ्यास करें 
3.रात में पढ़ाई करने से क्या होता है?

उत्तर – रात में पढ़ाई करने से व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर कुछ असर हो सकते हैं। कुछ लोगों को रात में पढ़ाई करने के बाद सोने में मुश्किल होती है और उन्हें नींद नहीं आती है। अगर यह स्थिति लंबे समय तक बरकरार रहती है तो इससे उनके शारीरिक स्वास्थ्य पर बुरा असर भी पड़ सकता है।

दूसरी ओर देखें, तो  कुछ लोगों को रात में पढ़ाई करने में कोई दिक्कत नहीं होती है और वे उत्तम ढंग से पढ़ाई कर करते हैं। इस तरह के व्यक्ति की नींद पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता है। आमतौर पर, अगर व्यक्ति रात को लम्बी अवधि तक जागता है, तो उसकी दिनचर्या और स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है। उन्हें थकान और दिनभर कमजोरी महसूस हो सकती है, जिससे उनका काम भी प्रभावित हो सकता है।

 

4.सेल्फ स्टडी से क्या फायदा है?

उत्तर – सेल्फ स्टडी के कई फायदे हैं। जिनमें से कुछ निम्नलिखित महत्वपूर्ण फायदे दिए गए हैं:

  • सेल्फ स्टडी करने से आपको स्वतंत्रता मिलती है। आपको अपने अध्ययन समय के अनुसार अपनी अवधि और आवश्यकताओं के अनुसार अपना समय नियंत्रित करने की स्वतंत्रता होती है।
  • सेल्फ स्टडी आपको आपके रूचि और विषयों के अनुसार अपने अध्ययन में निर्देशित करने की स्वतंत्रता देता है। इसलिए आप अपने शैक्षणिक हितों और लक्ष्यों के अनुसार अध्ययन कर सकते हैं।
  • सेल्फ स्टडी आपको आत्मविश्वास देता है। यदि आप अपने अध्ययन में सफलता प्राप्त करते हैं, तो आप अपने अनुभव से ज्यादा आत्मविश्वास प्राप्त करते हैं।
  • सेल्फ स्टडी से आप अपनी अध्ययन समृद्धि को बढ़ा सकते हैं। यह आपको विषयों के अनुसार अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करने और अपने समझ को मजबूत करने म
5.फटाफट याद कैसे करें?

उत्तर – फटाफट याद करने के लिए निम्नलिखित टिप्स दिए गए हैं जिसका पालन कर अभी फटाफट याद कर सकते हैं: 

  • ज्यादा देर तक नहीं सोएं: सोने से पहले सोचने वाली चीजों को याद रखने की क्षमता कम होती है। इसलिए, अपनी नींद की समय अवधि कम करने की कोशिश करें और उससे पहले याद करने वाली चीजों को दोहराएं।
  • मन से जोड़ें: याद करने की क्षमता को सुधारने के लिए, वह चीजें जो आप याद करना चाहते हैं, उन्हें अपने मन से जोड़ें। उनके बारे में सोचें, उन्हें देखें या उनसे संबंधित कोई याददाश्त मजबूत करने वाली क्रिया करें।
  • संबंध बनाएं: नई चीजों को याद करने के लिए, उन्हें अपनी पहले से मौजूदा ज्ञान से जोड़ने का प्रयास करें। यह उन्हें अधिक सहज बनाता है और उन्हें याद करने में मदद करता है।
  • आवाज उच्च करें: याद करने की क्षमता को सुधारने के लिए, वह चीजें जो आप याद करना चाहते हैं, अपने आवाज को ऊंचा करके दोहराएं। इससे उन्हें अधिक सहजता से याद किया जा सक
6.टॉपर बनने के लिए कितने घंटे पढ़ाई करनी चाहिए?

उत्तर – टॉपर बनने के लिए घंटों की संख्या नहीं, बल्कि निरंतर और उचित अभ्यास की गुणवत्ता पर निर्भर करता है। 

7.सेल्फ स्टडी का मतलब क्या होता है?

उत्तर – सेल्फ स्टडी का मतलब होता है अपने आप से अध्ययन करना। यह एक आत्म-नियंत्रित शैक्षणिक प्रक्रिया होती है जिसमें छात्र अपने अध्ययन की योजना तैयार करते हैं, विषय की अध्ययन करते हैं, संदर्भ सामग्री को संग्रहित करते हैं और अपनी समझ को मजबूत करते हैं। 

8.पढ़ने के बाद भूल क्यों जाते हैं?

उत्तर – पढ़ने के बाद भूल जाने के कई कारण हो सकते हैं। कुछ मुख्य कारण निम्नलिखित हैं:

  • ध्यान केंद्रित नहीं किया जाता है: जब हम कोई चीज पढ़ते हैं, तो अधिकतर लोगों के पास अन्य चीजों की तरह भीड़ होती है। इसलिए अधिकतर लोग इस बात का ध्यान नहीं देते कि वे क्या पढ़ रहे हैं। ऐसे में, यदि हम ध्यान से नहीं पढ़ते हैं, तो उस विषय से संबंधित जानकारी को याद रखना मुश्किल हो सकता है।
  • समय की कमी: अधिकतर लोग अपने दैनिक जीवन में बहुत सारे काम जैसे कि काम, घर का काम, परिवार आदि के कारण बहुत व्यस्त रहते हैं। इसलिए अधिकतर लोगों के पास ज्ञान और जानकारी को याद रखने के लिए समय नहीं होता है।
  • विषय से असंबद्धता: कभी-कभी हम ऐसी चीजें पढ़ते हैं जो हमारे व्यक्तिगत रूचि से असंबद्ध होती हैं। ऐसे में, यदि हम कुछ पढ़ते हैं जो हमारे व्यक्तिगत रूचि से असंबद्ध होती है, तो हम उसको याद रखने में क
9.टॉपर कॉपी में कैसे लिखते हैं?

उत्तर – टॉपर कॉपी जैसी लिखने के लिए कुछ उपयोगी टिप्स हैं, जिन्हें आप अपनाकर टॉपर की जैसी कॉपी लिखने की कला को सिख सकते हैं। 

  • टॉपर की जैसी कॉपी लिखने के लिए  सबसे पहले, आपको अपनी लिखावट को सुधारनी  होगी। और इसे सुधारने के लिए आपको ज्यादा से ज्यादा लिखने की प्रयास करनी चाहिए।
  • आप जो कॉपी लिख रहे हैं उसमें किसी भी टॉपिक को ज्यादा से ज्यादा स्पष्ट और सुव्यवस्थित लिखने का प्रयास करें और आपके लेखन का स्वर, शब्दकोश, और उत्तर देने का ढंग बेहद सरल होना चाहिए।
  • टॉपर जैसी कॉपी लिखते समय,आपको संक्षेप में किसी टॉपिक को लिखना चाहिए। किसी भी प्रश्न का सीधा सा उत्तर देना चाहिए।
  • टॉपर कॉपी लिखते समय, किसी भी प्रश्न का उत्तर ज्यादा से ज्यादा घुमावदार नहीं लिखना चाहिए किसी प्रश्न का जवाब इस प्रकार लिखने का प्रयास करें ताकि कोई भी पढ़े तो उसे आसानी से समझ आ जाए।
10.बोर्ड परीक्षा में कुछ नहीं आए तो क्या करें?

उत्तर – अगर बोर्ड परीक्षा में कुछ नहीं आए तो इससे निराश होने की जगह आपको पॉजिटिव सोचना चाहिए। आपको याद रखना चाहिए कि एक बोर्ड परीक्षा आपकी भविष्य को नहीं तय कर सकती है। जितना आपको समझ आता है जितना आप लिख सकते हैं आप उतना एक कॉपी में जरूर लिखिए। बोर्ड परीक्षा की कॉपी सादा छोड़ने से अच्छा है कि उसमें कुछ ना कुछ जरूर लिखकर आए।

 

1 thought on “सेल्फ स्टडी कैसे करें – How to do self study”

Leave a Comment